Bhagyalakshmi Yojana 2017

 Bhagyalakshmi Yojana 2017

उत्तर प्रदेश सरकार Bhagyalakshmi Yojana 2017 शुरू करने जा रही है। इस योजना के तहत मां को भी 5100 रुपए मिलेंगे। उत्तर प्रदेश के महिला कल्याण विभाग इस योजना को लेकर तैयारियां शुरू कर दी हैं। योगी आदित्यनाथ सरकार ने कुछ बड़े फैसले लिए। योगी सरकार ने फैसला किया है कि अब गरीब परिवारों में बेटी के जन्म होने पर 50 हजार रुपए का बॉन्ड दिया जाएगा। प्रदेश सरकार ने बेटियों के जन्म के समय 50 हजार रुपए का बॉन्ड देने की जो योजना तैयार की है, उसमें बेटियां जैसे-जैसे बड़ी होंगी वैसे-वैसे पैसा अभिभावकों को मिलता जाएगा। कक्षा 6 में आने पर बेटियों को 3 हजार रुपए, कक्षा 8 में आने पर 5 हजार रुपए, कक्षा 10 में पहुंचने पर 7 हजार व इंटरमीडिएट में आने पर 8 हजार रुपए मिलेंगे। इसी तरह 21 वर्ष की आयु में 2 लाख रुपए अभिभावकों को दिए जाएंगे।

bhagyalakshimi yojana

Bhagyalakshmi Yojana के लाभ को पाने के लिए सरकारों के साथ समझौता करने की जरूरत है जो नीचे दर्शायी गयी है:

  •  नवजात शिशु बाल श्रमिक नहीं बनेंगे
  • 18 वर्ष की आयु तक की लड़की को शादी नहीं करनी चाहिए
  • बच्चे को शिक्षा प्रदान करने के लिए आवश्यक
  • शिक्षा विभाग द्वारा मान्यता प्राप्त किसी विद्यालय में प्रवेश करें।
  • आंगनवाड़ी केंद्र में नामांकित हो
  • इसके बाद, उन्हें नीचे आवश्यक दस्तावेज के साथ Bhagyalakshmi Yojana 2017 आवेदन पत्र जमा करना होगा।
  • आपके पास आधार कार्ड होना चाहिए
  • अस्पताल का नाम जहां लड़की का जन्म प्रमाण पत्र जन्मे
  • पारिवारिक आय 2 लाख से कम होनी चाहिए (हम जल्द ही गाइड लाइन अपडेट करते हैं)।
  • राशन पत्रिका
  • पिता, मुखिया या संरक्षक के पास परिवार नियोजन के तरीकों पर सहमति होनी चाहिए और बच्चों की कुल संख्या 3 से अधिक नहीं होनी चाहिए
  • भाग्यलक्ष्मी स्कीम के लाभ केवल बी.पी.एल. परिवार के 2 लड़कियों के बच्चों तक सीमित हैं।

 

Bhagyalakshmi Yojana जून 2017 के महीने में शुरू की जाएगी ताकि बीपीएल परिवार स्वयं को पंजीकरण कर सकें। निम्नलिखित कुछ दस्तावेज हैं जिन्हें Bhagyalakshmi Yojanaके लिए नामांकित करने की आवश्यकता है, यहां देखें

  • आपके पास आधार कार्ड होना चाहिए
  • अस्पताल का नाम जहां लड़की का जन्म प्रमाण पत्र जन्मे
  • पारिवारिक आय 2 लाख से कम होनी चाहिए (हम जल्द ही गाइड लाइन अपडेट करते हैं)
  • राशन पत्रिका
  • पिता, मुखिया या संरक्षक के पास परिवार नियोजन के तरीकों पर सहमति होनी चाहिए और बच्चों की कुल संख्या 3 से अधिक नहीं होनी चाहिए
  • भाग्यलक्ष्मी स्कीम के लाभ केवल बी.पी.एल. परिवार के 2 लड़कियों के बच्चों तक सीमित हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *