Dak Jeevan Bima Gram Yojana

dak jeevan bima in hindi, dak jeevan bima details 2019 , dak jeevan bima details in hindi, gramin dak jeevan bima hindi, sampoorna bima gram yojana in hindi, dak jeevan bima policy in hind, jeevan bima yojana in hindi, dak jeevan bima online payment, How To Apply|Apply Online|Online Registration|Online Form|Details|Benefit| Eligibility Criteria|Objective|Online Application form

Dak Jeevan Bima Gram Yojana

Dak Jeevan Bima Gram Yojana :- दोस्तों केंद्र सरकार ने ग्रामीण क्षेत्रों में रह रहे लोगो के लिए संपूर्ण डाक जीवन बीमा ग्राम योजना (RPLI) लॉन्च की है। इस योजना के अंतर्गत देश के हर ग्राम में लोगो को इस बिमा योजना से जोड़ा जाएगा। इस योजना से हर जिले के कम से कम एक गांव में प्रत्येक परिवार को RPLI की बीमा पॉलिसी से सुरक्षित किया जाएगा। इस योजना में देश के प्रत्‍येक जिले में कम से कम सौ परिवारों वाले एक गांव का चयन किया जाएगा।

इस योजना के तहत चयनित गांव के हर परिवार के एक व्‍यक्ति को ग्रामीण डाक बीमा योजना के अंतर्गत लाया जाएगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की डाक के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्रों में बैंकिंग सुविधाएं मुहैया कराने की सोच को आगे ले जाने की जरुरत है, ताकि देश के ग्रामीण क्षेत्रों में रह रहे लोगों को किफायती जीवन बीमा सेवा मुहैया कराई जा सके। सांसद आदर्श ग्राम योजना के तहत आनेवाले सभी गांवों को इस योजना के दायरे में लाया जाएगा।

Postal Life Insurance Village Scheme

1. पहले पोस्टल बीमा योजना सिर्फ सरकारी और अर्ध-सरकारी कर्मचारियों के लिए थी लेकिन अब उसमें बदलाव किया गया है।

2. यह योजना देश के हर गांव में पहुचायी जाएगी।

3. इसमें प्रोफेसनल्स, इंजीनियर, डॉक्टर्स और चार्टड एकाउंटेंट, ऐसी कंपनी में कार्यरत कर्मचारी जिनकी कंपनी का रजिस्ट्रेशन नेशनल स्टॉक एक्सचेंज में है, वह सभी लोग इस योजना का लाभ उठा सकते हैं।

4. इस योजना में बीमा की न्यूनत राशि 20 हजार रुपए है और अधिकतम 50 लाख रुपए है। उन्होंने कहा कि इसका प्रीमियम LIC से भी कम है।

5. ग्रामीण क्षेत्रों के लिए बीमा की न्यूनतम राशि 10 हजार रुपए और अधिकतम 10 लाख रुपए है।

6. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की महत्वाकांक्षी सांसद आदर्शग्राम योजना में भी इसे सम्मिलित करते हुए ये अनिवार्य किया गया है कि सभी सांसद आदर्श गांवों को इस योजना का लाभ दिया जाए।

7. 31 मार्च, 2017 तक देश भर में 46.8 लाख पीएलआई और 146.8 लाख आरपीएलआई पॉलिसी धारक थे।

8. वर्ष 2000 में बीमा क्षेत्र के उदारीकरण के बाद से देश के बीमा उद्योग में काफी बदलाव आया है और भारतीय बीमा विनियामक और विकास प्राधिकरण (आईआरडीएआई) का गठन किया गया है।

9. ऐसे प्रतिस्पर्धी माहौल में डाक जीवन बीमा (पीएलआई)/ग्रामीण डाक जीवन बीमा (आरपीएलआई) को स्वयं को दोबारा परिभाषित करना अत्यंत जरूरी है।

 

1 Comment

Add a Comment
  1. ma ka jivan vima kar ban chata ho

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.