G20 Summit 2019

G20 Summit 2017

G20 Nation:

 Argentina , Australia ,Brazil,Canada, France ,Germany ,India ,Indonesia ,Italy ,Japan ,Mexico ,Russia
,Saudi Arabia ,South Korea ,Turkey ,United Kingdom ,United States of America ,China ,South Africa


G20 Summit 2017 Updates in Hindi:

G20 Summit 2017 का जी-20 का 12वां शिखर सम्मेलन जर्मनी के हैम्बर्ग में हो रहा है। 7 और 8 जुलाई को इस साल का शिखर सम्मेलन आयोजित किया गया है। इस सम्मेलन का उदेस्य ‘शेपिंग एन इंटर-कनेक्टिड वर्ल्ड’ रखा गया है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जी-20 शिखर सम्मेलन में आतंकवाद के मुद्दे पर पाकिस्‍तान को घेरा है। पाकिस्तान का नाम लिए बिना प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि दक्षिण एशिया में एक देश आतंकवाद को फैला रहा है। उन्‍होंने कहा, “हिंसा और आतंकवाद की बढ़ती ताकत ने चुनौती खड़ी कर दी है।

कुछ देश हैं जो इसे राष्‍ट्रीय नीति के रूप में इस्‍तेमाल कर रहे हैं। वास्‍तव में, दक्षिण एशिया में एक ही देश है जो हमारे क्षेत्र के देशों में आतंक फैला रहा है। आतंकी, आतंकी होता है। आतंकवाद के समर्थन करने वालों को अलग किया जाए और उन पर प्रतिबंध लगाए जाए। मैं अंतरराष्‍ट्रीय समुदाय से अपील करता हूं कि एक होकर आतंकवाद के खिलाफ कार्रवाई की जाए।

आतंकवाद के खिलाफ भारत की जीरो टॉलरेंस की नीति है, क्‍योंकि इससे कम हमें कुछ भी पर्याप्‍त नहीं है।” 12वें जी-20 शिखर सम्मेलन के दौरान आतंकवाद से मुकाबला और आर्थिक सुधार जैसे मुद्दों के छाए रहने की संभावना है साथ ही मुक्त और खुला व्यापार, जलवायु परिवर्तन, आव्रजन, सतत विकास और वैश्विक स्थायित्व जैसे विषयों पर भी चर्चा की संभावना है।

शनिवार को शिखर सम्मेलन का समापन सत्र होगा। इसके बाद जी-20 नेताओं की ओर से संयुक्त बयान जारी किया जाएगा। 2.41 PM: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग ब्रिक्स समिट में मिले। भारत ने चीन को हरसंभव मदद का भरोसा दिया। चीनी राष्ट्रपति ने भी भारत के विकास की उम्मीद जताई। पीएम ने ब्रिक्स देशों को बताया कि भारत ने जीएसटी लागू कर कर-सुधार की दिशा में नया और महत्वपूर्ण कदम उठाया है।

G20 Summit 2017 Introduced 10-point agenda

अंतर्राष्ट्रीय आतंकवाद पर व्यापक सम्मेलन को शीघ्र अपनाया जाना।

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद प्रस्ताव तथा अन्य अंतरराष्ट्रीय प्रक्रियाओं को प्रभावी ढंग से लागू करना।

कट्टरता के ख़िलाफ़ कार्यक्रमों पर जी-20 देशों द्वारा साझे प्रयास की रणनीतियों को आपस में साझा करना।

एफएटीएफ तथा अन्य प्रक्रियाओं द्वारा आतंकियों को वित्तीय मदद वाले आधार और माध्यमों पर प्रभावशाली प्रतिबंध।

एफएटीएफ की तरह ही हथियारों पर रोक के लिए हथियार और विस्फोटक ऐक्शन टास्क का गठन, ताकि आतंकवादियों तक पहुंचने वाले हथियारों के स्रोतों को बंद किया जा सके।

जी-20 देशों के बीच आतंकवादी गतिविधियों पर केंद्रित साइबर सुरक्षा क्षेत्र में ठोस सहयोग।

जी-20 में आतंकवाद पर रोक के लिए सभी देशों के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकारों के बीच तालमेल के लिए एक तंत्र का गठन।

जाहिर है पीएम ने पाकिस्तान का नाम लिए बगैर उस पर निशाना साधा है और साफ कर दिया है कि कुछ देश आतंकवादियों को राजनीतिक उद्देश्य की पूर्ति के लिए इस्तेमाल करते हैं। जानकार पीएम के इस एजेंडे को अहम बता रहे हैं।

इससे पहले जर्मन चांसलर ने सम्मेलन का एजेंडा तय करते हुए कहा कि बड़े लक्ष्य तभी हासिल किए जा सकते हैं, जब सरकारें आगे बढ़कर एक दूसरे के साथ काम करने को तैयार हों।

दो दिन के इस महत्वपूर्ण सम्मेलन की थीम शेपिंग एन इंटर-कनेक्टिड वर्ल्ड है। शिखर सम्मेलन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वैश्विक विकास, व्यापार, सतत विकास, जलवायु परिवर्तन और ऊर्जा के लिए आयोजित विशेष सत्रों में भी हिस्सा लेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.