India Armenia Three agreements between

India Armenia Three agreements between

भारत और अर्मेनिया ने मंगलवार को तीन समझौतों पर हस्ताक्षर किए। इन समझौतों पर हस्ताक्षर येरेवन में उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी और अर्मेनिया के प्रधानमंत्री करेन कारापेटेयन के बीच द्विपक्षीय बैठक के बाद किए गए।

Three MOU between India Armenia

  • संस्‍कृति
  • युवा मामले
  • अंतरिक्ष के शांतिपूर्ण उपयोग

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गोपाल बागले ने ट्वीट किया कि उपराष्ट्रपति ने अर्मेनिया के प्रधानमंत्री के साथ द्विपक्षीय संबंधों के प्रगति की समीक्षा की और भारत और अर्मेनिया ने तीन समझौतों पर हस्ताक्षर किए।

दोनों देशों ने बाह्य अंतरिक्ष के शांतिपूर्ण इस्तेमाल पर एक समझौता ज्ञापन (MOU), एक अन्य MOU युवा मामलों में सहयोग पर और एक सांस्कृतिक सहयोग के कार्यक्रम पर 2017 से 2020 तक के लिए हस्ताक्षर किए। उपराष्ट्रपति अंसारी सोमवार को अर्मेनिया की राजधानी पहुंचे। वह बुधवार को पोलैंड के लिए रवाना होंगे।

भारत और आर्मेनिया ने ब्राडकास्टिंग और फिल्म के क्षेत्र में सहयोग बढ़ाने पर सहमति व्यक्त की और विशेष तौर पर बालीवुड फिल्मों की शूटिंग के लिए अपने देश को उपयुक्त स्थल के रूप में पेश किया।

विदेश मंत्रालय की अधिकारी ने बताया कि आर्मेनिया ने भारतीय फिल्म उद्योग विशेषतौर पर बालीवुड को फिल्मों की शूटिंग के लिए आमंत्रित किया। इस बारे में संभावना तलाशने के लिए एक टीम जल्द यहां आ सकती है।

बातचीत के दौरान अमेर्निया के राष्ट्रपति ने उपराष्ट्रपति अंसारी को बताया कि बालीवुड फिल्में उनके देश में लोकप्रिय है और और उनकी पौत्री को बालीवुड संगीत पसंद है।

भारत ने आर्मेनिया का कई क्षेत्रों में सहयोग किया है जिसमें उत्कृष्ट संस्थान केंद्र सेंटर फार एक्सलेंस, परम सुपर कंम्पयूटर और यहां स्कूलों में कम्प्यूटर लैब स्थापित करना शाामिल है।

विदेश मंत्रालय की अधिकारी ने बताया कि आईटी और मशीन निर्माण ऐसे क्षेत्र हैं जहां दोनों देश सहयोग कर सकते हैं। इस बारे में संयुक्त समूह बनाने की संभावना पर काम होगा।

अर्मेर्निया के नेतृत्व के साथ बातचीत के दौरान दोनों पक्षों ने इस बात पर सहमति व्यक्त की कि आंतकवाद के संबंध में दोहरे मानदंड नहीं हो सकते।

अधिकारी ने बताया कि उपराष्ट्रपति ने कहा कि अच्छा या बुरा आतंकवाद नहीं हो सकता है। आतंकवाद से सभी प्रभावित हैं और दुनिया के समक्ष इस बुराई के खिलाफ अंतरराष्ट्रीय समुदाय को एक स्वर में बोलना चाहिए।

उन्होंने कहा कि अर्मेनिया ने भी आतंकवाद के खिलाफ एकजुटता की जरूरत को रेखांकित किया।

अर्मेनिया ने इस बात को रेखांकित किया कि उसने संयुक्त राष्ट्र समेत अनेक अंतररष्ट्रीय मंचों पर भारत का समर्थन किया है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *