Kailash Mansarover Yatra

Kailash Mansarover Yatra

Kailash Mansarover Yatra

(Kailash Mansarover Yatra)  कैलाश मानसरोवर हर वर्ष जून से सितंबर के बीच दो अलग-अलग मार्गों- लिपुलेख दर्रा (उत्तराखण्ड), और नाथु-ला दर्रा (सिक्किम) से इस यात्रा का आयोजन जाता है। कैलाश मानसरोवर की यात्रा (KMY) अपने धार्मिक मूल्यों और सांस्कृतिक महत्व के कारण जानी जाती है। हर वर्ष  सैकड़ों यात्री इस तीर्थ यात्रा पर जाते हैं।

भगवान शिव के निवास के रूप में हिन्दुओं के लिए महत्वपूर्ण होने के साथ-साथ यह जैन और बौद्ध धर्म के लोगों के लिए भी धार्मिक महत्व रखता है। यह यात्रा उन भारतीय नागरिकों के लिए है| जिन के पास भारतीय पासपोर्टधारक हों और धार्मिक प्रयोजन से कैलाश मानसरोवर जाना चाहते हैं। विदेश मंत्रालय यात्रियों को किसी भी प्रकार की आर्थिक मदद अथवा वित्तीय सहायता नहीं देता।

 

Medical check-up | चिकित्सा जाँच

Kailash Mansarover Yatra यात्रियों को यात्रा से पहले तैयारियों और चिकित्सा जाँच के लिए दिल्ली में 3 या 4 दिन तक रूकना होगा। दिल्ली सरकार केवल यात्रियों के लिए साझा तौर पर खान-पान और ठहरने की सुविधाओं का निःशुल्क प्रबंध करती है। यात्री यदि चाहे तो दिल्ली में खान-पान और ठहरने की अपनी व्यवस्था कर सकते हैं।

 

Online Application | ऑनलाइन आवेदक

आवेदक ऑनलाइन पंजीकरण करने के पहले यात्री को अपना फिटनेस चेक करबाना पड़ता है| फिटनेस चेक यात्रा से पहले दिल्ली में डीएचएलआई और आईटीबीपी द्वारा की जाती है।

 

 Ability to apply online | ऑनलाइन आवेदन करने की योग्यता  

  • तीर्थयात्री भारतीय नागरिक होना चाहिए।
  • उसके पास चालू वर्ष के 01 सितंबर को कम से कम 6 महीने की शेष वैधता अवधि वाला भारतीय पासपोर्ट होना चाहिए।
  • उसकी आयु चालू वर्ष की 01 जनवरी को कम से कम 18 और अधिक से अधिक 70 वर्ष होनी चाहिए।
  • उसका बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) 25 या उससे कम होना चाहिए।
  • धार्मिक प्रयोजनार्थ यात्रा करने के लिए उसे शारीरिक रूप से स्वस्थ और चिकित्सा की दृष्टि से उपयुक्त होना चाहिए।
  • विदेशी नागरिक आवेदन करने के पात्र नहीं हैं; अतः ओसीआई कार्डधारी पात्र नहीं हैं।

 

      शर्तेँ- आवेदक यात्रा के लिए आवेदन करने से पूर्व निम्नलिखित शर्तों को ध्यानपूर्वक नोट करेः

  • अधूरे आवेदनों को रद्द किया जा सकता है और उन्हें कम्प्यूटरीकृत ड्रॉ में शामिल नहीं किया जाएगा।
  • आप के द्बारा भरा गया आवेदन में गलत अथवा असत्य सूचना यात्रा के दौरान तथा यात्रा के किसी भी चरण में अयोग्यता का आधार होगी।
  • यह आवेदक की जिम्मेदारी है कि वह नाम की वर्तनी, जन्मतिथि इत्यादि सहित हर तरह से पूर्ण और सही सूचना दे।
  • आवेदक को उच्च रक्तचाप, मधुमेह, दमा, हृदय रोग, मिरगी इत्यादि रोगों से पीड़ित नहीं होना चाहिए।
  • चुने गए आवेदकों को उच्च तुंगता सहनशीलता जाँच के लिए दिल्ली में दिल्ली हार्ट एंड लंग इंस्टीट्यूट और आईटीबीपी बेस अस्पताल द्वारा आयोजित विशिष्ट चिकित्सा जाँच करानी होगी और उसमें सफल होना होगा।
  • किसी भी यात्री को किसी भी चरण में उच्च तुंगता सहनशीलता जाँच चिकित्सा की दृष्टि से अनुपयुक्त पाये जाने पर यात्रा जारी रखने की अनुमति नहीं दी जाएगी। [दिल्ली हार्ट एंड लंग इंस्टीट्यूट(डीएचएलआई) द्वारा की जाने वाली चिकित्सा जाँचों के लिए कृपया चिकित्सा जाँच देखें]।
  • किसी भी यात्री को यात्रा के किसी भी चरण में चिकित्सा और/अथवा अन्य आधार पर अयोग्य पाये जाने पर उसकी पुष्टि धनराशि और पहले किये गये अन्य भुगतान जब्त कर लिए जाएंगे।
  • यदि कोई चयनित यात्री निर्धारित यात्रा कार्यक्रम के अनुसार अपने समूह में शामिल नहीं हो पाता है तब भी यात्रा जत्थे निर्धारित तारीखों को ही रवाना होंगे।
  • पहली बार जाने वाले आवेदकों को उन आवेदकों की अपेक्षा वरीयता दी जाएगी जो इस मंत्रालय द्वारा पिछले किसी भी वर्ष आयोजित की गई यात्रा में जा चुके हैं।
  • उन आवेदकों के मामले में स्थगन होगा, जो इस मंत्रालय द्वारा आयोजित इस यात्रा में पिछले वर्षों में 4 बार से भी अधिक जा चुके हैं। इस मंत्रालय में सक्षम प्राधिकारी का निर्णय अंतिम होगा और इस बारे में किसी भी अभ्यावेदन पर विचार नहीं किया जाएगा।
  • जिन आवेदकों पर ऐसा कोई कानूनी अथवा प्रशासकीय प्रतिबंध लगा हुआ है जो उस व्यक्ति को विदेश यात्रा से वंचित करता है वह इस यात्रा के लिए आवेदन करने के पात्र नहीं होंगे।

Kailash Mansarover Yatra

Kailash Mansarover Selection Process | कैलाश मानसरोवर चयन प्रक्रिया

1. निष्पक्ष कंप्यूटरीकृत प्रणाली के माध्यम से ड्राः विदेश मंत्रालय द्वारा एक निष्पक्ष कंप्यूटर-जनित, यादृच्छिक, लिंगानुपातिक चयन प्रक्रिया के माध्यम से यात्रियों का चयन किया जाएगा और उनको विभिन्न मार्ग एवं बैच आबंटित किए जाएंगे। आवेदन के स्तर पर एक ही बैच में चार व्यक्तियों का दल एक साथ यात्रा करने का विकल्प दे सकते हैं। प्रत्येक आवेदक की पात्रता शर्तों के अधीन जहाँ तक संभव होगा ऐसे अनुरोध को समायोजित करने का प्रयास किया जाएगा। प्रत्येक आवेदक को ऑन-लाईन आवेदन पूरा करना चाहिए।

2. सूचना: कंप्यूटरीकृत ड्रा के पश्चात चुने गए आवेदकों को उनके पंजीकृत ई-मेल आई डी/मोबाईल नं. पर स्वचालित संदेश के माध्यम से सूचित किया जाएगा। हेल्पलाईन नं. 011-24300655 के माध्यम से भी अद्यतन स्थिति जानी जा सकती है।

शर्तें

3. कंप्यूटरीकृत प्रक्रिया के माध्यम से यात्रियों को एक बार आबंटित मार्ग एवं बैच में सामान्य तौर पर परिवर्तन नहीं किया जाएगा। तथापि, यदि परिवर्तन किए जाने की आवश्यकता है तो चयनित यात्री परिवर्तन का औचित्य प्रदान करते हुए बैच में परिवर्तन हेतु अनुरोध कर सकते हैं। यह परिवर्तन खाली स्थान उपलब्ध होने पर ही किया जा सकेगा। इस मामले में मंत्रालय का निर्णय ही अंतिम होगा।

4. कंप्यूटरीकृत ड्रा के पश्चात्, चुने गए प्रत्येक आवेदक को कट-ऑफ तिथि से पूर्व कुमांऊ मण्डल विकास निगम (KMVN) अथवा सिक्किम पर्यटन विकास निगम (STDC) द्वारा निर्धारित बैंक खाते में ‘ यात्रियों हेतु शुल्क एवं व्यय ‘ में उल्लिखित अप्रतिदेय पुष्टिकरण राशि जमा कराकर अपनी भागीदारी की पुष्टि करनी होगी।

5. दि कट-ऑफ तिथि तक KMVN/STDC के खाते में राशि का भुगतान नहीं किया जाता है तो ऐसे यात्रियों को स्वतः ही चयन सूची से हटाकर बैच की प्रतीक्षा सूची में डाल दिया जाएगा तथा उपर्युक्त पैरा 3 में किए गए उल्लेख के अनुसार अन्य यात्रियों के अनुरोध पर विचार किया जाएगा।

6. किसी बैच के लिए संपुष्ट किए गए यात्रियों को यात्रा के लिए दिल्ली पहुँचने से पहले बैच में अपनी भागीदारी की पुनः पुष्टि करना अपेक्षित होगा। पुनः पुष्टिकरण वेबसाईट पर ऑनलाईन करना होगा। ऐसा नहीं किए जाने के परिणामस्वरूप उनका नाम बैच की सूची से काट भी दिया जा सकता है।

7.संपुष्ट किए गए यात्रियों को बैच के लिए निर्धारित यात्रा-कार्यक्रम के अनुसार नियत तारीख और समय पर DHLI में रिपोर्ट करना अनिवार्य है। ऐसा नहीं करने के परिणामस्वरूप उनका नाम उस बैच से काट दिया जाएगा। प्रत्येक बैच के सभी यात्रियों के लिए एक साथ यात्रा करना तथा वापस लौटना अनिवार्य है।

8. पंजीकृत/प्रतीक्षा सूचीबद्ध यात्री भी यात्रा छोड़ देने वाले (ड्रॉप आउट) यात्री के स्थान पर बैच में शामिल किए जाने हेतु DHLI में रिपोर्ट कर सकते हैं। इसमें नाम शामिल किया जाना पूर्णतया ड्रॉप आउट से उत्पन्न खाली स्थान की उपलब्धता के अधीन है।

9. चयन के बाद महत्‍वपूर्ण दस्‍तावेज:

चुने गए एवं संपुष्ट किए गए यात्रियों को यात्रा के लिए दिल्ली आते समय निम्नलिखित दस्तावेजों को अपने साथ अनिवार्य रूप से लाना होगा।

(i) भारतीय पासपोर्ट, जो वर्तमान वर्ष के 1 सितंबर को कम से कम छः (6) महीने के लिए वैध हो।
(ii) फोटो : रंगीन, पासपोर्ट साईज (6 प्रतियां)
(iii) क्षतिपूर्ति बांड, 100 रुपए या स्थानीय स्तर पर लागू राशि के गैर-न्यायिक स्टांप पेपर पर तथा प्रथम श्रेणी के मजिस्ट्रेट या नोटरी पब्लिक द्वारा सत्यापित।
(iv) वचन पत्र, आपात स्थिति में हेलिकॉप्टर द्वारा निकासी हेतु।
(v) सहमति पत्र, चीनी क्षेत्र में हुई मृत्यु की स्थिति में पार्थिव शरीर के अंतिम संस्कार हेतु।

10. यदि उपर्युक्त पैरा 9 में वर्णित किसी भी दस्तावेज को प्रस्तुत नहीं किया जाता है या वे वर्तमान वर्ष की अपेक्षाओं के अनुरूप न हों अथवा उनमें कोई अन्य कमी पाई जाती है तो यात्री को यात्रा की अनुमति नहीं दी जाएगी। इस मामले में मंत्रालय का निर्णय ही अंतिम होगा और इस संदर्भ में किसी भी प्रकार के अभ्यावेदन पर कोई विचार नहीं किया जाएगा।

परामर्श
इस यात्रा में प्रतिकूल हालात, अत्यंत खराब मौसम में ऊबड़-खाबड़ भू-भाग से होते हुए 19,500 फुट तक की चढ़ाई चढ़नी होती है और यह उन लोगों के लिए जोखिम भरा हो सकता है जो शारीरिक और चिकित्सा की दृष्टि से तंदुरुस्त नहीं हैं। यात्रा कार्यक्रम अनंतिम है और उसमें शामिल स्थानों की यात्रा किसी भी समय स्थानीय हालात के अध्यधीन है।

भारत सरकार किसी भी प्राकृतिक आपदा के कारण अथवा किसी भी अन्य कारण से किसी यात्री की मृत्यु अथवा उसके जख्मी होने अथवा उसकी संपत्ति के खोने अथवा क्षतिग्रस्त होने के लिए किसी भी तरह से जिम्मेदार नहीं होगी। तीर्थयात्री यह यात्रा पूरी तरह से अपनी इच्छा शक्ति के बल पर तथा खर्च, जोखिम और परिणामों से अवगत होकर करते हैं।

किसी तीर्थयात्री की सीमा पार मृत्यु हो जाने पर सरकार की उसके पार्थिव शरीर को दाह-संस्कार के लिए भारत लाने की किसी तरह की बाध्यता नहीं होगी। अतः मृत्यु के मामले में चीन में पार्थिव शरीर के अंतिम संस्कार के लिए सभी तीर्थ यात्रियों को एक सहमति प्रपत्र पर हस्ताक्षर करना होता है।

Route रूट:-
यह यात्रा उत्तराखंड, दिल्ली और सिक्किम राज्य की सरकारों और भारत तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी) के सहयोग से आयोजित की जाती है। कुमाऊं मंडल विकास निगम (केएमवीएन) और सिक्किम पर्यटन विकास निगम (एसटीडीसी) तथा उनके संबद्ध संगठन भारत में यात्रियों के हर जत्थे के लिए सम्भारगत सहायता और सुविधाएं मुहैया कराते हैं। दिल्ली हार्ट एवं लंग इंस्टीट्यूट (डीएचएलआई) इस यात्रा के लिए आवेदकों के स्वास्थ्य स्तरों के निर्धारण के लिए चिकित्सा जाँच करता है।

Kailash Mansarover Yatra

  1. Kailash Mansarover Uttarakhand Route 

 Kailash Mansarover Uttarakhand Route

       2. Kailash Mansarover Sikkim Route 

Kailash Mansarover Sikkim Route

 

Expenses For Travel यात्रा के लिए शुल्क और व्‍यय:-

सं.

लिपुलेख मार्ग

प्रति यात्री अनुमानित खर्च के ब्यौरे

नाथु-ला मार्ग

1.रु. 5,000यात्रा के मार्ग के अनुसार देय पुष्टि राशि
(किसी जत्थे में पुष्टि होने पर अप्रतिदेय)
रु. 5,000
शेष देय राशि (प्रस्थान से पहले)
2.रु. 30,000कुमाऊं मंडल विकास निगम (KMVN)
3.सिक्किम पर्यटन विकास निगम (STDC)रु. 20,000
4.वापसी हवाई यात्रा किराया दिल्ली-बागडोगरा-दिल्ली क्षेत्र
(STDC द्वारा बुकिंग की व्यवस्था और राशि उन्हें अग्रिम तौर पर देय)
(एयर लाइन नीति के अनुसार हवाई किराया और निरस्तीकरण पर किराया की वापसी)
रु. 14,000
नकद/डेबिट/क्रेडिट कार्ड द्वारा देय
5.रु. 3,100चिकित्सा जाँच- दिल्ली हार्ट एंड लंग इंस्टीट्यूट(डीएचएलआई) को देयरु. 3,100
6.रु. 2,500स्ट्रेस इको जाँच (यदि डीएचएलआई द्वारा अपेक्षित हो और परामर्श दिया गया हो)रु. 2,500
7.रु. 2,400चीन का वीजा शुल्क (डीएचएलआई में नकद लिया जाएगा)रु. 2,400
सेवा प्रदाता को नकद देय
8.रु. 11,940 *भारतीय सीमा के भीतर आने-जाने के लिए कुली प्रभार
(उत्तराखण्ड सरकार द्वारा संशोधन के अध्यधीन)
9.रु. 15,380 *भारतीय सीमा के भीतर आने-जाने के लिए टट्टू और टट्टूचालक को देय
(उत्तराखण्ड सरकार द्वारा संशोधन के अध्यधीन)
साझा व्यय
10.रु. 4,000सामूहिक कार्यकलापों के लिए पुल धन हेतु अंशदानरु. 4,000
11.◼◼जत्थे के लिए रसोइया भाड़े पर लेने, साझा खाद्य पदार्थ खरीदने इत्यादि के लिए मेहनताना◼◼
तिब्बत स्वायत्त क्षेत्र (TAR) में देय
12.US$ 901ठहरने, परिवहन, प्रवेश टिकटों इत्यादि के लिए।
इसमें आप्रवासन के लिए एक अमरीकी डालर का शुल्क शामिल है।
US$ 1801
13.RMB 630*चीन की सीमा के भीतर आने-जाने के लिए कुली
(टीएआर प्राधिकारियों द्वारा संशोधन के अध्यधीन)
RMB 630*
14.RMB 1710*चीन सीमा के भीतर टट्टू और टट्टूचालक को देय राशि (टीएआर प्राधिकारियों द्वारा संशोधन के अध्यधीन)RMB 1710*

अस्वीकरण: इस मंत्रालय ने इस यात्रा के आयोजन के लिए किसी अन्य गैर-सरकारी संगठन, स्वैच्छिक संगठन अथवा व्यक्ति को किसी भी प्रयोजन के लिए अथवा किसी भी तरीके से शामिल नहीं किया है।

ऐसे संगठन अथवा व्यक्ति द्वारा संयोजन का कोई दावा उनका अपना है और विदेश मंत्रालय का इस संबंध में कोई दायित्व नहीं है।

विधिक : कैलाश मानसरोवर यात्रा की वेबसाइट की विषय वस्तु पर कोई प्रतिकूल प्रभाव डाले बिना सभी दावे, विवाद और मतभेद केवल दिल्ली स्थित न्यायालयों के क्षेत्राधिकार के अध्यधीन होंगे।

 

                                               अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*