Pandit Deen Dayal upadhyay shramoday awasiya vidyalaya Madhya Pradesh

Pandit Deen Dayal upadhyay shramoday awasiya vidyalaya Madhya Pradesh:- मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि देश और प्रदेश के विकास में श्रमिकों का महत्वपूर्ण योगदान है। सरकार ने यह योजना गरीव छात्रों के लिए लाई है। इस योजना के अंतर्गत राज्य सरकार ने श्रमिकों के जीवन में सकारात्मक बदलाव लाने के लिये कई योजनाएँ बनाई हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज यहाँ ग्राम मुगालिया छाप में निर्माण श्रमिकों के बच्चों के आवासीय श्रमोदय विद्यालय के शिलान्यास समारोह को संबोधित कर रहे थे। तीस करोड़ की लागत से बनने वाला यह आवासीय विद्यालय श्रमिकों के बच्चों के लिये देश का इस तरह का पहला विद्यालय होगा।

Pandit Deen Dayal Upadhyay Shramoday Awasiya Yidyalaya MP

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि इस स्कूल का नाम पंडित दीनदयाल उपाध्याय के नाम पर दीनदयाल श्रमोदय विद्यालय होगा। उन्होंने कहा कि मजदूर पंचायत के निर्णयों के बाद श्रमिक कल्याण की विभिन्न योजनाएँ जिनमें छात्रवृत्ति, प्रसूति सहायता, कन्या विवाह सहायता, आकस्मिक मृत्यु पर सहायता, उपचार के लिये सहायता जैसी योजनाएँ बनाई गई। अब राज्य, संभाग और जिला स्तर पर खेलकूद प्रतियोगिताओं में चयनित होने वाले श्रमिकों के बच्चों को 10 हजार से लेकर 50 हजार तक की राशि दी जायेगी। निर्माण श्रमिकों को टूल किट खरीदने पर 50 प्रतिशत राशि भवन एवं अन्य संन्निर्माण कर्मकार मंडल देगा। पंजीकृत श्रमिकों के बच्चों की स्नातक और स्नातकोत्तर कक्षाओं की कोचिंग के लिये सहायता राशि दी जायेगी। मजदूरों को सस्ता राशन एक रूपया किलो गेहूँ और एक रूपया किलो चावल उपलब्ध करवाया जायेगा। प्रदेश में गरीबों के लिये अगले पाँच साल में 15लाख मकान बनाये जायेंगे।

मध्यप्रदेश पंडित दीनदयाल उपाध्याय श्रमोदय आवासीय विद्यालय योजना

* इस योजना का उद्देश्य श्रमोदय विद्यालय मजदूरों के प्रतिभाशाली बच्चों को आगे बढ़ायेगा।
* इस आवासीय विद्यालय में गुणवत्तापूर्ण शिक्षा की व्यवस्था की जायेगी।

* मध्यप्रदेश आज देश का सबसे अधिक विकास दर और सर्वाधिक कृषि विकास दर वाला प्रदेश है।
* उन्होंने गाँव मुगालिया छाप के किसानों की केचमेंट एरिया की समस्या का निराकरण करने तथा ग्राम में खेल के मैदान की घोषणा की।

* उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री श्री मोदी के स्वच्छ भारत अभियान को सफल बनायें तथा गाँव के हर घर में शौचालय बनवायें।
* राज्य सरकार ने श्रमिकों के कल्याण के लिये कई योजनाएँ बनाई हैं।

* मध्यप्रदेश में भवन एवं संनिर्माण कर्मकार मंडल अंतर्गत पंजीकृत निर्माण श्रमिकों के बालक-बालिकाओं को उत्कृष्ट शिक्षा प्रदान करने हेतु पं. दीनदयाल उपाध्याय श्रमोदय आवासीय विद्यालय प्रारंभ किए जा रहे हैं।
* उक्त आवासीय विद्यालय भोपाल, इंदौर, ग्वालियर एवं जबलपुर में शैक्षणिक सत्र 2018-19 से प्रारंभ होंगे।

* उक्त आवासीय विद्यालयों में शैक्षणिक सत्र 2018-19 में कक्षा 6, 7, 8, 9 एवं 11 में लिखित परीक्षा के माध्यम से प्रवेश दिया जाएगा।
* इन आवासीय विद्यालयों में पंजीकृत निर्माण श्रमिकों के बच्चों के सर्वांगीण विकास को ध्यान में रखकर सभी सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएगी।

* विद्यालयों में छात्र-छात्राओं की शिक्षा, खान-पान, गणवेश, खेलकूद, आवास एवं अन्य सुविधाएं पूर्णत: नि:शुल्क उपलब्ध होगीं।
* बैतूल जिले के छात्र-छात्राओं के लिए भोपाल में प्रारंभ होने वाला श्रमोदय आवासीय विद्यालय अधिकृत किया गया है।

* वर्तमान में जिस विद्यालय में छात्र-छात्राएं अध्ययनरत हैं, उस विद्यालय में ही प्रवेश परीक्षा हेतु आवेदन जमा किए जाएंगे।
* आवेदन जमा करने की अंतिम तिथि 30 दिसंबर 2017 है। इस संबंध में विस्तृत जानकारी जिला श्रम पदाधिकारी कार्यालय सदर इटारसी रोड बैतूल से प्राप्त की जा सकती है।

How To Apply|Apply Online|Online Registration|Online Form|Details|Benefit| Eligibility Criteria|Objective|Online Application form|http://www.labour.mp.gov.in/Default.aspx

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *