Scams list (भारत में हुए घोटालों की सूची)

List of Scams (भारत में हुए घोटालों की सूची)

भारत में हुए अब तक के सब से बड़े घोटाले जिन का इतिहास बहुत बड़ा है. इन घोटालो से भारत की अर्थब्यबस्था बहुत बिगड़ गई है. कुछ ऐसे भी घोटाले है जिन की फाइल्स कभी खुली ही नहीं यदि कोई फाइल खुलती भी है तो उस फाइल का कोई भी नतीजा नहीं निकलता.इस देश के अंदर ऐसे भी घोटाले बाज हैं जो आज तक खुले में घूम रहे हैं.

1साइकिल आयात घोटाला  (1950)
2मुंध्रा मैस घोटाला (1 9 58)   1.2 करोड़
3तेजा ऋण घोटाला (1 9 60) 22 करोड़
4मारुति घोटाला
5कुओ ऑयल डील घोटाला (1 9 76)
6अंतुले ट्रस्ट घोटाला  (1 9 81)
7एचडीडब्लू दलाली पनडुब्बी घोटाला (1 9 87)  20 करोड़
8बोफोर्स घोटाला (1 9 87)  64 करोड़
9सिक्योरिटी स्कैम (हर्षद मेहता कांड) (1 99 2) – 5000 करोड़ रुपये
10इंडियन बैंक घोटाला (1 99 2)- 13000 करोड़ रुपये
11चारा घोटाला (1 99 6)-9 50 करोड़ -मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव
12तहलका घोटाला- डिफेंस डील में काफी घपलेबाजी
13स्टॉक मार्केट  घोटाला(2002) – 1,15,000 करोड़ रुपये का घोटाला
14स्टांप पेपर घोटाला – मास्टरमाइंड अब्दुल करीम तेलगी
15सत्यम घोटाला सॉफ्टवेयर कंपनी (2008 ) – 8000 करोड़ रुपए -अध्यक्ष रामलिंगा राजू
16मनी लांडरिंग (200 9) 40000 करोड़  रूपये  का घोटाला      मधु कोड़ा
17बोफर्स घोटाला- 64 करोड़ रु।
18एच.डी. डब्ल्यू सबमरीन घोटाला- 32 करोड़ रु
19स्टाक मार्केट घोटाला- 4100 करोड़ रु
20एयरबस स्कैला घोटाला- 120 करोड़ रुपये
21फ्रांस से बोइंग 757 की खरीद का सौदा
22दूरसंचार घोटाला (1 99 6 )-1200 करोड़ रुपये
23यूरिया घोटाला (1 99 6) – 133 करोड़ रुपये
24सीआरबी घोटाला (1 99 7) – 1030 करोड़ रुपये
25हसन अलि खान घोटाला 2011
26२जी स्पेक्ट्रम घोटाला 2010
27आर्दश हाउसिंग सोसाइटी घोटाला
28कॉमनवेल्थ खेल घोटाला
29हाउसिंग लोन घोटाला मुम्बई (2010)
30बेलेकेरी पोर्ट घोटाला
31झारखण्ड चिकित्सालय धन काण्ड
32चावल निर्यात घोटाला
33ओडिया खदान घोटाला
34मधु कोडा खदान घोटाला
35ताज कॉरीडोर काण्ड
36अगस्ता हेलिकॉप्टर घोटाला- (2013) -36 अरब रुपए -सोनिया गांधी के राजनीतिक सचिव अहमद पटेल
37वाड्रा-डीएलएफ़ घोटाला- (2012 ) -से 65 करोड़ का ब्याजमुक्त लोन लेने का आरोप लगा
38नेशनल हेराल्ड केस-(2011)
39नागरवाला स्कैंडल- 1971
40मूंदड़ा स्कैंडल – 1951

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*