राजस्थान गुरू शिष्य संवाद योजना

राजस्थान गुरू शिष्य संवाद योजना

राजस्थान गुरू शिष्य संवाद योजना

राजस्थान गुरू शिष्य संवाद योजना :- राजस्थान सरकार के उच्च शिक्षा विभाग ने नोडल कॉलेज विद्यार्थियों के लिए “गुरू शिष्य संवाद योजना” की शुरुआत की जा रही है।इस योजना के तहत राज्य में नोडल कॉलेज बनाए जाएंगे। जिनमे हर बार कुछ छात्रों का चुनाव किया जाएगा जो नॉडल कॉलेज में बैठ कर अपनी समस्याओं के बारे में चर्चा करेंगे।

और जो समस्या सभी कॉलेजों में कॉमन होगी उसे उच्च शिक्षा विभाग दूर करेगा। इस गुरू शिष्य योजना के तहत छात्रों से सीधे संवाद करने की योजना पर प्रदेश सरकार ने काम करना शुरू कर दिया है।

गुरू शिष्य योजना के तहत छात्रों से सीधे संवाद करने की योजना पर प्रदेश सरकार काम कर रही है। इसके अलावा राज्य के उच्च शिक्षा विभाग ने कॉलेजों के विकास के लिए 200 करोड़ रुपए और पाच राजकीय विश्वविद्यालयों को 100 करोड़ रुपए के फंड का आवंटन किया है इसके अलावा राज्य में राजस्थान राज्य उच्च शिक्षा परिषद का गठन गत वर्ष किया गया है।

सरकारी कॉलेजों में स्टूडेंट्स की स्किल बढ़ाने के लिए दिशारी योजना लागू की जिसमें विद्यार्थियों की कोचिंग एवं दिशारी एप लॉच किया गया। माहेश्वरी ने कहा कि राज्य सरकार ने पिछले चार वर्षों में लगभग 6 हजार 900 से ज्यादा पदों पर भर्ती के लिए स्वीकृतियां जारी कीं हैं।

गुरू शिष्य योजना स्टाफ के सदस्यों डाॅ.अशोक तंवर ने एन.सी.सी. की विभिन्न गतिविधियों की जानकारी प्रदान की। नेमीचंद गर्ग द्वारा रूसा यूजीसी तथा रोवरिंग की जानकारी दी गई। डाॅ. एस.एस.मीणा ने युवा कौशल विकास योजना के बारे में बताया। अशोक दलाल ने साहित्यिक एवं सांस्कृतिक कार्यक्रमों में छात्र-छात्राओं का भाग लेने की सलाह दी। छात्र संघ अध्यक्ष दुर्जनसिंह भाटी ने छात्र-छात्राओं की समस्याओं को बताया।

स्टाफ की कमी से उत्पन्न समस्याओं के निराकरण के लिए आग्रह किया तथा छात्र-छात्राओं से छात्रसंघ सप्ताह में भाग लेने की अपील की। छात्रा प्रियंका माली ने हिन्दी माध्यम की पुस्तकों की समस्या बताई। छात्रा राधिका थानवी तथा सुजैन ने छात्राओं को उचित मार्गदर्शन के लिए डेस्क की आवश्यकता जताई। छात्रा चंदा ने खेलकूद के लिए टीम और मैचों आदि की जानकारी के अभाव के बारे में बताया।

About योजनायें 793 Articles
हेलो दोस्तों इस वेबसाइट को चलने का उदेश्य सरकार द्वारा चलाई जा रही योजनाओं को आप तक पहुंचना है। जिस से आप के पसस समय समय पर इस की जानकारी आप तक पहुंच सके।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*


This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.