Jharakhand Awas Chayan Yojana झारखण्ड आवास चयन योजना

झारखण्ड आवास चयन योजना

Jharakhand Awas Chayan Yojana

Jharakhand Awas Chayan Yojana :- झारखण्ड सरकार ने झारखण्ड के डी ग्रेड के कर्मचारीयो के लिए आवास योजना को शुरू किया है। झारखण्ड आवास चयन योजना को बोकारो इस्पात संयंत्र के आवास आवंटन प्रणाली में संशोधन के तुरंत बाद ही कंपनी में काम करने वाले अनाधिशासियों के लिए शुरू किया गया है।

झारखण्ड आवास चयन योजना

झारखण्ड आवास चयन योजना के अंतर्गत पहली बार बीएसएल में काम करने वाले S-3 से लेकर S-5 ग्रेड के कर्मचारी अब ऑप्शन बेसिस के बजाए फ्रेश रूप से डी टाइप आवास ले सकेंगे।

Detail of Jharakhand Awas Chayan Yojana

1. इस पद पर काम करने बाले कर्मचारी 23 अक्टूबर से एक नवंबर 2017 तक बीएसएल की आधिकारिक वेबसाइट पर अपना आवेदन जमा कर सकते हैं।

2. योजना के तहत आवेदन जमा होने के बाद वरीयता सूची कर्मचारी संख्या व सेवाकाल के आधार पर तैयार की जाएगी।

3. झारखण्ड आवास चयन योजना के अंतर्गत आवेदक द्वारा सभी प्रक्रिया पूर्ण होने पर जनवरी माह के अंत तक आवास का आवंटन कर दिया जाएगा।

4. इस आवासीय योजना के तहत कंपनी में काम करने वाले वैसे कर्मचारी जो 21 अक्टूबर 2017 अथवा उससे पहले S-3 ग्रेड में प्रवेश कर गए है।

5. इसके लिए आवेदकों को अपने पसंदीदा सेक्टर व तल का विवरण फॉर्म में भरकर देना होगा।

6. कॉरपोरेट ऑफिस के निर्देश पर सेक्टर चार ए व चार डी के आवास चिकित्सा व महिला कर्मियों के लिए आरक्षित रखे गए हैं।

7. साथ ही बीएसएल के वैसे कर्मी जो वर्तमान में वर्जन अवधि में है और वर्जन अवधि 21 अक्टूबर 2017 से 31 जनवरी 2018 के दौरान समाप्त होने वाली है।

8. इस आवास योजना के तहत वे भी इच्छानुसार किसी एक तल का विवरण आवेदन में दे सकते हैं।

9. लेकिन उन्हें आवास का आवंटन उनके वर्जन अवधि के समाप्ति के बाद किया जाएगा।

10. झारखण्ड आवास चयन योजना के लागू होने से बीएसएल के लगभग एक हजार से ज्यादा कर्मचारी लाभांवित होंगे।

About Kabita Rana 864 Articles
यह वेबसाइट सरकार द्वारा संचालित नहीं की जाती है। यह एक प्राइवेट वेबसाइट है इस वेबसाइट में हम सरकार द्वारा चलाई जा रही योजनाओं को लिखते हैं। जिससे सरकार द्वारा चलाई गई योजनाओ की जानकारी समय समय आप के पास पहुंच सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*


This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.