प्रधान मंत्री वान धन योजना

Pradhan Mantri Van Dhan Scheme 

PM van dhan scheme wikipedia, Pradhan Mantri Van Dhan Scheme hindi, PM van dhan scheme aim,PM van dhan yojana upsc, Apply Online,Online Registration,Online Form, Online Application form, Download PDF Form, Benefit, Eligibility Criteria, Objective, Helpline Number

Pradhan Mantri Van Dhan Scheme

Pradhan Mantri Van Dhan Scheme :- केंद्र सरकार ने वन धन योजना 2020 के तहत 3000 (Van Dhan) केंद्र स्थापित करने का प्रस्ताव दिया है। जनजातीय मामलों के मंत्रालय पूरे देश में 30,000 स्वयं सहायता समूहों की स्थापना करेंगे। मुख्य फोकस वन संपत्ति (गैर-लकड़ी का उत्पादन) तक का उपयोग करना है। 2 लाख करोड़ और एसएचजी के माध्यम से जनजातीय लोगों के कल्याण के लिए इसका इस्तेमाल करना हे।

पहले चरण में सरकार इस योजना को 115 महत्वाकांक्षी जिलों में लॉन्च करेगी। और बाद में इसे सभी जनजातीय क्षेत्रों में लागू किया जाएगा। यह योजना सुनिश्चित करेगी कि आदिवासी लोगों को मूल्यवर्धन और उचित मूल्यों के लाभ दिए जाएंगे। सरकार इस योजना को 3 चरणों में लागु करेगी।

प्रधान मंत्री वान धन योजना

वान धन योजना, जन धन योजना और गोबर धन योजना मोदी सरकार की प्रमुख योजनाएं हैं। प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने 14 अप्रैल 2018 को छत्तीसगढ़ में डॉ अम्बेडकर जयंती पर प्रधान मंत्री वान धन योजना की शुरुआत की है। पीएम नरेंद्र मोदी ने 20 साल पहले फेल हो चुकी वन-धन योजना की शुरुआत दोबारा की। जांगला में उन्होंने न्यूनतम समर्थन मूल्य पर वनोपज खरीदी की योजना की शुरुआत की।

प्रधान मंत्री वान धन योजना के तहत आदिवासियों के वनोपज को सही दाम दिलाने की कोशिश की जाएगी लेकिन पीएम ने जिस वनोपज नीति की शुरुआत शनिवार को की वह 20 साल पहले फेल हो चुकी थी। बस्तर में 1999 में इस योजना को लागू किया गया था लेकिन गैर आदिवासी कारोबारियों के विरोध के बाद सरकार ने इस नीति को वापस ले लिया था।

Van Dhan Scheme 2020 – Setting Up of 3000 Kendras (30,000 SHGs)

वान धन योजना 2020 आदिवासियों के लिए आजीविका पैदा करने की योजना है। यह गैर-लकड़ी के वन उपज का उपयोग करके और जंगल की वास्तविक संपत्ति (वान धन) का उपयोग करने के माध्यम से किया जाता है। वान धन योजना में जनजातियों को सशक्त बनाने की एक बड़ी संभावना है। सरकार पंचायती राज के साथ अभिसरण पर ध्यान केंद्रित करेंगे।

यह योजना जनजातियों के पारंपरिक ज्ञान और कौशल सेट पर निर्माण पर ध्यान केंद्रित करेगी। यह मूल्यवर्धन के लिए प्रौद्योगिकी और आईटी जोड़ने के माध्यम से किया जाएगा। वन्य जनजातीय जिलों में, सरकार जनजातीय समुदाय के स्वामित्व वाले वान धन विकास केंद्रों को स्थापित करने के हर संभव प्रयास करेंगे।

इस तरह के प्रत्येक केंद्र में 10 जनजातीय एसएचजी शामिल होंगे जिसमें प्रत्येक एसएचजी में 30 जनजातीय एनटीएफपी जमाकर्ता और कारीगर होंगे। यह प्रति केंद्र लगभग 300 लाभार्थियों को सुनिश्चित करेगा।

About Kabita Rana 871 Articles
यह वेबसाइट सरकार द्वारा संचालित नहीं की जाती है। यह एक प्राइवेट वेबसाइट है इस वेबसाइट में हम सरकार द्वारा चलाई जा रही योजनाओं को लिखते हैं। जिससे सरकार द्वारा चलाई गई योजनाओ की जानकारी समय समय आप के पास पहुंच सके।

1 Comment

  1. mera neam suchi me hai tatha rin mochan nahi hua hai shikayat no 181700000701 aur DLC adhikari ke pas gaya tha usane batya ki bank se sahi karege tatha bankne batya ki yaha se sahi hai tatha DLC adhikari nebatya tha ki apaka adhar no 371568852813 do khate me seb hai ishi karan se apaka rin mochan nahi kiya gaya hai tatha jisaka pahala nam tha uska maf kar diya hai dusare nam ka adhar no ko anbailet kar diya hai rin mochan rok diya hai tatha apase nivedan hai rin mochan karne ki krpa kare to mahan daya hogi prathi prahlad awasth

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*


This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.