Centrally Sponsored Sericulture Scheme

Centrally Sponsored Sericulture Scheme

central silk board schemes 2020,Centrally Sponsored Sericulture Scheme,government schemes for sericulture, sericulture schemes in maharashtra, subsidy for sericulture in karnataka, sericulture training, silk samagra, central silk board statistics, sericulture in dharmapuri, in hindi, How To Apply,Apply Online,Online Registration,Online Form,Details,Eligibility Criteria,Online Application form 

Centrally Sponsored Sericulture Scheme 2020 

Centrally Sponsored Sericulture Scheme :- सीसीईए ने प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता वाली केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक में केंद्रीय क्षेत्र रेशम उत्पादन योजना को मंजूरी दी है। यह केन्द्र प्रायोजित “सिल्क इंडस्ट्री के विकास के लिए एकीकृत योजना” अब 2017-18 से 2019-20 तक जारी रहेगी, जिसमें कुल लागत 12 रुपये है। यह योजना के तहत 2161.68 करोड़ रुपये का बजट आबंटित किया है। जिस में महिला सशक्तीकरण को बढ़ावा देगा और वित्त वर्ष 2020 तक लगभग 85 लाख से 1 करोड़ नौकरियों के निर्माण के साथ-साथ अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति को आजीविका के अवसर भी प्रदान करना है।

सिल्क इंडस्ट्री के विकास के लिए एकीकृत योजना 2020

यह योजना कच्चे रेशम आयात को कम करेगी और 2022 तक रेशम के उत्पादन में भारत को आत्मनिर्भर बनायेगी। केंद्र सरकार प्रौद्योगिकी उन्नयन, मेजबान पौधे की किस्मों में सुधार और रोग प्रतिरोधक प्रतिरोधी रेशम की कीड़े की नस्लों पर ध्यान केंद्रित करेगी। केंद्रीय रेशम बोर्ड (सीएसबी) इस योजना को आरएंडडी हस्तक्षेप के माध्यम से रेशम की गुणवत्ता और स्वदेशी उत्पादन में सुधार के लिए कार्यान्वित करेगा। इस एकीकृत योजना का प्राथमिक उद्देश्य कॉस्मेटिक अनुप्रयोगों के लिए पोल्ट्री फीड और सेरीसीन के लिए रेशमकीट द्वारा-उत्पादों का उपयोग करना है। इसके अलावा, सरकार अतिरिक्त मूल्य प्राप्ति के लिए उत्पादों को गैर-बुने हुए कपड़ों, रेशम डेनिम, रेशम बुनना आदि में विविधता देगा।

Sericulture Scheme – Components

1. अनुसंधान एवं विकास (आर एंड डी), प्रशिक्षण, प्रौद्योगिकी हस्तांतरण और अन्य आईटी पहल
2. बीज संगठन और किसान विस्तार केंद्र
3. बीज, धागा और रेशम उत्पादों के लिए समन्वय और बाजार विकास

4. गुणवत्ता प्रमाणन प्रणाली (क्यूसीएस) रेशम परीक्षण सुविधाओं की एक श्रृंखला के निर्माण के माध्यम से, फार्म आधारित और बाद के कोकून प्रौद्योगिकी के निर्यात ब्रांड के उन्नयन और प्रोत्साहन।
5. सेंट्रल रेशम बोर्ड (सीएसबी) इस योजना को 3 साल के लिए लागू करेगा, जिसमें फंड के तोर पर 2161.68 करोड़ आवंटन किया है।

Centrally Sponsored Sericulture Scheme

Integrated Scheme For Development of Silk Industry

केन्द्रीय सरकार 2019-20 के अंत तक 30,348 मीट्रिक टन (2016-17) से 38,500 मीट्रिक टन तक रेशम के उत्पादन में वृद्धि करना चाहता है। यह निम्न हस्तक्षेप के माध्यम से किया जा सकता है: –

1. 2020 तक बिवॉल्टन रेशम (प्रतिस्थापन) के उत्पादन में लगभग 8500 मीट्रिक टन पीए की वृद्धि
2. प्रति हेक्टेयर में रेशम के उत्पादन में सुधार के लिए अनुसंधान एवं विकास का कुशल उपयोग 100 हेक्टेयर प्रति हेक्टेयर से 11 किलो प्रति हेक्टेयर में किया गया।
3. केन्द्रीय सरकार मेक इन इंडिया कार्यक्रम में शहतूत (स्वचालित मशीनरी) और वान्या सिल्क (बुनियाद मशीनरी) के लिए बेहतर रीलिंग मशीन उपलब्ध कराएगा। इससे बाजार की मांगों को पूरा करने के लिए उत्पादित रेशम की गुणवत्ता में सुधार होगा।
4. केंद्रीय सरकार की इस रेशम उत्पादन योजना के जरिए 2020 तक करीब 1 करोड़ नौकरियां मिलेंगी।

Improvement in Sericulture Scheme from Previous Scheme

1. 2022 तक सिल्क के उत्पादन में भारत को स्व-पर्याप्त बनाना। भारत में उच्च ग्रेड रेशम के उत्पादन में 20,650 मीट्रिक टन की वृद्धि करेगी जो वर्तमान में 11,326 मीट्रिक टन है। यह योजना शून्य से आयात को कम करेगी।
2. केन्द्रीय सरकार फोकस उच्च गुणवत्ता रेशम के उत्पादन पर ही है इसके लिए सरकार 2020 तक वर्तमान 15% से 25% शहतूत के उत्पादन के लिए 4 ए ग्रेड रेशम में वृद्धि होगी।

3. रेशम उत्पादकों के लिए लाभ को अधिकतम करने के लिए कृषि मंत्रालय की ग्रामीण विकास, आरकेवीवाई और पीएमकेवाई जैसे अन्य योजनाओं के अभिसरण के माध्यम से इस योजना को कार्यान्वित किया जाएगा।
4. विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग, कृषि और मानव संसाधन विकास विभिन्न अनुसंधान एवं विकास परियोजनाओं को शुरू करेगा। इन परियोजनाओं में रोग प्रतिरोधी रेशमकीट, मेजबान पौधे में सुधार, उत्पादकता बढ़ाने के उपकरण और रिलिड और लहराते के लिए उपकरण उपलब्ध कराएगा

5. भारत में रेशम उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए रेशम कीड़े का उपयोग, उच्च गुणवत्ता के बीज उपलब्ध कराने, नए ठंडे बर्तनों की स्थापना, मोबाइल कीटाणुशोधन इकाइयां उपलब्ध कराने के कुछ अन्य पहल हैं।
6. केन्द्रीय सरकार रेशम के उत्पादन में भारत को आत्मनिर्भर बनाने के लिए मशीनीकरण सस्ती बनाने पर भी ध्यान दिया जाएगा। इसके अलावा, सरकार घरेलू और साथ ही निर्यात बाजार में भारतीय सिल्क के ब्रांड को बढ़ावा देगा।

 

Official Website :- http://ministryoftextiles.gov.in/

About Kabita Rana 865 Articles
यह वेबसाइट सरकार द्वारा संचालित नहीं की जाती है। यह एक प्राइवेट वेबसाइट है इस वेबसाइट में हम सरकार द्वारा चलाई जा रही योजनाओं को लिखते हैं। जिससे सरकार द्वारा चलाई गई योजनाओ की जानकारी समय समय आप के पास पहुंच सके।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*


This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.